Cryptocurrency Meaning In Hindi क्रिप्टोकरेंसी क्या होती है?

Cryptocurrency Meaning In Hindi

डिजिटल जगत में cryptocurrency बहुत ही फेमस है। एक समय था जब शायद किसी को नही पता था कि एक समय हमारे बीच क्रिप्टो करेंसी भी आ जाएगी, लेकिन अब ऐसा हो चुका है। आज हम Cryptocurrency Meaning In Hindi और Cryptocurrency In Hindi के विषय में बात करेगे और जानेगे की क्रिप्टो आखिर होता क्या है और किस आधार पर कार्य करता है। हम यह भी जानेगे कि दुनिया की सबसे पहली क्रिप्टो करेंसी कौन सी है और इसे किसने बनाया था।

आज के समय में कई सारे लोग ऐसे है जो Cryptocurrency में इस्वेस्ट कर रहे है और कई सारे लोग ऐसे भी है जो इस प्रकार की Currency में इन्वेस्ट करने में डरते है। आज हम इन दोनों पहलुओ पर बात करेगे।

Cryptocurrency Meaning In Hindi

क्रिप्टो एक Digital Currency होती है। आसान भाषा में हम इसे डिजिटल पैसा कह सकते है। इस Currency को कोई ट्रैक नही कर सकता। क्रिप्टो को हम दो भागो में समझते है। क्रिप्टो करेंसी कंप्यूटर एल्गोरिथम पर बनी एक करेंसी होती है। यह करेंसी किसी थर्ड पार्टी जैसे बैंक के बिना ही काम करती है।

1.Cryptography

क्रिप्टोग्राफी किसी भी डाटा को सुरक्षित या एक प्रकार की कोडिंग में बदलने की प्रक्रिया है। क्रिप्टोग्राफी प्रक्रिया के द्वारा कोई तीसरा व्यक्ति आपके डाटा को अक्सिक्स नही कर सकता है। इस प्रोसेस को सिर्फ सेंडर और रिसीवर ही एक्सिक्स कर सकते है। इसी को हम Cryptography कहते है।

क्रिप्टोग्राफ़ी एक प्रोसेस होता है इसके द्वारा ही ब्लाक चैन तैयार होती है। ब्लाक चैन करेंसी की बढते रिकार्ड्स की संख्या के आधार पर बनती है। जिसे हम ब्लाक कहते है। इस ब्लाक में पूरी तरह से क्रिप्टोग्राफ़ी का ही उपयोग होता है। इस ब्लाक चैन से किसी भी यूजर का डाटा निकलना या डिलीट करना ना मुमकिन है। इसी लिए यह काफी सुरक्षित माना जाता है।

2.CryptoCurrency

यह कैश का डिजिटल फॉर्म होता है। जो हमारे पास कैश होता है और क्रिप्टो में बहुत अंतर होता है। Cryptocurrency में किसी भी तरह के बैंक इन्वाल्व नही होते है पर साधारण करेंसी या किसी भी देश की करेंसी में उस देश के बैंक इन्वाल्व होते है।

Crypto Money सेंड करने के लिए किसी भी बैंक की जरुरत नही पड़ती है। आप डायरेक्ट की मनी सेंड कर सकते है। क्रिप्टो करेंसी आप दुनिया के किसी भी कोने में बैठे व्यक्ति को ट्रांसफर कर सकते है, किसी भी बैंक की जरूरत नही पड़ती है। यही कारण है कि Cryptocurrency आज इतना पोपुलर हो रहा है।

क्या Cryptocurrency भारत में Legal है?

हाँ, Cryptocurrency भारत में लीगल है, लेकिन जब आप क्रिप्टो में निवेश करते है तो सरकार इसकी जुम्मेदारी नही लेती है। जैसा कि स्टॉक मार्केट में सरकार की देख रेख में होता है। क्रिप्टो में इन्वेस्ट करना भारत में लीगल है। 2018 की शुरुआत में, भारतीय रिज़र्व बैंक ने विनियमित संस्थाओं के लिए Cryptocurrency की बिक्री या खरीद पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की।

Cryptocurrency Meaning In Hindi

2019 में, भारत के सर्वोच्च न्यायालय के साथ इंटरनेट और मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया द्वारा एक याचिका दायर की गई है जिसमें क्रिप्टोकरेंसी की वैधता को चुनौती दी गई है और उनके लेनदेन पर रोक लगाने के लिए एक दिशा या आदेश की मांग की गई है। उसके बाद मार्च 2020 में, भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने फैसला दिया फिर क्रिप्टोक्यूरेंसी व्यापार पर आरबीआई ने प्रतिबंध को रद्द कर दिया।

अब तो RBI खुद की Digital Currency जारी करने के बारे में सोच रही है। दुनिया के कई सारे देश अपनी डिजिटल करेंसी जारी करने के बारे में सोच रहे है।

RBI अधिनियम की धारा 26 के अनुसार आप भारतीय नोट को भारत में किसी भी स्थान पर भुगतान कर सकते है। भारत सरकार इसकी जिम्मेदारी लेती है, लेकिन क्रिप्टो के साथ ऐसा नही है। आप कही भी इसका भुगतान नही कर सकते है।

Cryptocurrency की शुरुआत कब हुई? Cryptocurrency Meaning In Hindi

क्रिप्टोकरेंसी की शुरुआत 2009 में की गयी थी और सबसे पहली करेंसी Bitcoin थी। Bitcoin के बाद कई करेंसी को बनाया गया और आज मार्केट में कई करेंसी उपलब्ध है। बिटकॉइन को सबसे पहले ओपन सोर्स सोफ्टवेयर के रूप में जारी किया गया था।

क्रिप्टो करेंसी के अंदर कई सारी करेंसी जैसे – बिटकॉइन, टोकन, ऑल्टकॉइन आदि आते है। इन सभी को क्रिप्टोकरेंसी के विकल्प के रूप में माना जाता है।

BlockChain क्या है?

यह एक डाटाबेस होता है। जैसा की नाम से ही स्पस्ट है कि ब्लाक और चैन। Block वह स्थान जहा यूजर का डाटा इकठ्ठा होता है, और जब पहला ब्लाक फुल हो जाता है और नया ब्लाक बनता है तो यह पहले ब्लाक के लास्ट Transaction से साथ जुडा हुआ रहता है और इसी प्रकार एक चैन बन जाती है।

प्रत्येक Transaction एक दुसरे ब्लाक से जुडा रहता है इसी को हम Blockchain कहते है। इस स्थिति में किसी यूजर की जानकारी निकालना या जानकारी डिलीट करना असम्भव हो जाता जाता है।

Bitcoin क्या है?

Bitcoin एक क्रिप्टोकरेंसी है। इसकी खोज 2008 में की गई और 2009 में इसे लांच किया गया था। Bitcoin की खोज सतोषी नाकामोटो नामक व्यक्ति ने की थी। लेकिन किसी को नहीं पता की सतोषी नाकामोटो कौन है।

Bitcoin की कुछ खास बाते है जो आपको जाननी चाहिए- बिटकॉइन की सप्लाई लिमिटेड है। पूरी दुनिया में सिर्फ 21 Million ही BitCoin है। लेकिन खरीदने और बेचने के लिए सिर्फ 18.6 Million Bitcoin ही उपलब्ध है। ऐसा नही है कि कभी भी बिटकॉइन बनाये जा सकते है।

स्टॉक मार्केट क्या होता है – पढ़े4