The Cosmos Tips

Trending

Coronavirus Testing कैसे होती है? घर पर टेस्ट कर सकते है?

Coronavirus Testing
Written by The Cosmos Tips

चारो तरफ Coronavirus का ही कहर है, लोगो के मन में कोरोना वायरस को लेकर विभिन्न प्रकार के प्रश्न है। आज हम Coronavirus Testing के विषय में बात करेगे और जानेगे की इस वायरस की टेस्टिंग कैसे की जाती है। किसे यह टेस्ट करवाना चाहिए और किसे नही करवाना चाहिए। आज हम इन सभी पहलुओ पर बात करेगे और समझेगे।

Coronavirus की शुरुआत 2019 में चीन से हुई थी। फिर धीरे धीरे यह वायरस पूरी दुनिया में फ़ैल गया। आज दूसरा साल चल रहा है लेकिन इस वायरस का असर कम होने की बजाय बढ़ गया है। भारत में एक नया म्यूटेशन बन गया है जो की और भी खतरनाक है।

लेख सूची

Coronavirus Testing कैसे की जाती है?

कोरोना वायरस की टेस्टिंग के कई तरीके है पर दो मुख्य तरीके उपलब्ध है जिनमे से एक है RT-PCR Test और दूसरा होता है Rapid Antibody Test. यह दोनों तरीको का उपयोग किया जाता है लेकिन इन दोनों का तरीका अलग अलग है। जब आप किसी लैब पर टेस्ट के लिए जाते है तो वहा आपका RT-PCR Test ही किया जाता है।

RT-PCR Test

हमारे शरीर में कोरोना वायरस RNA के रूप में रहता है, और किसी भी वायरस का पता लगाने के लिए हमें DNA की जरूरत पड़ती है, तो RT-PCR की मदद से इसे RNA से DNA में परिवर्तित कर दिया जाता है और फिर आसानी से इस वायरस का पता लगा लिया जाता है। इसे ही हम आरटी-पीसीआर टेस्ट कहते है।

इस टेस्ट को करने के लिए आपके नाक और मुह से स्वाब इकठ्ठा कर लिया जाता है। फिर इसमें से प्रोटीन और वसा को हटा देते और सिर्फ RNA को छोड़ते है। अब RT-PCR मशीन के द्वारा हम वायरस का पता लगाते है।

Coronavirus Testing
Coronavirus Testing

इस प्रक्रिया में यदि वायरस की पुष्टि होती है तो रिपोर्ट पॉजिटिव बताई जाती है और यदि इस प्रक्रिया में वायरस की पुष्टि नही होती है तो रिपोर्ट में निगेटिव दिखाया जाता है। इस प्रकार की टेस्टिंग में 3 से 4 घंटे लगते है।

अक्सर देखा गया है की इस प्रक्रिया में कई बार गलत रिपोर्ट भी आ जाती है। 30% ऐसे मामले आये जिनमे रिपोर्ट में गलत दिखाया गया। इसी लिए RT-PCR में द्वारा जब टेस्टिंग होती है तो दो बार टेस्ट किया जाता है। ताकि गलत रिपोर्ट आने के चांस कम ही हो सके।

Rapid Antibody Test

जैसा की नाम से ही पता चलता है कि यह एक एंटीबाडी टेस्ट होता है। जोकि एंटीबाडी में आधार पर पता लगाता है की वायरस आपके शरीर में आया था या नही। जब आपके शरीर में यह वायरस प्रवेश करता है तब आपका शरीर इस वायरस से लड़ने के लिए एंटीबाडी बनाता है और इसी एंटीबाडी के आधार पर वायरस का पता लगाया जाता है।

एंटीबाडी टेस्टिंग एक आसान और सस्ती प्रक्रिया है। संक्रमण के स्तर को देखने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है।

एंटीबाडी टेस्ट के लिए आपकी अंगुली से रक्त की बूद ली जाती है और फिर उसमे एंटीबाडी की खोज की जाती है। इस प्रक्रिया में 20 से 30 मिनट ही लगते है और उसके बाद आपको रिजल्ट दे दिया जाता है।

Stock Market Kya Hota Hai – Read

निष्कर्ष – आज हमने Coronavirus Testing के विषय में जाना और समझा। कई लोग टेस्ट कराने में डरते है, लेकिन यदि आपको भी कोई भी covid19 का लक्षण दिखता है तो टेस्ट तुरंत ही करवाए। यदि आपका किसी भी प्रकार का प्रश्न है तो आप हमें कमेंट के माध्यम से बता सकते है।

About the author

The Cosmos Tips